समूहवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं और इसके उदाहरण (Samuh vachak sangya)

samuh vachak sangya

वैसे ,क्या आपको समूहवाचक संज्ञा(Samuh vachak sangya) के बारे में पता है, हमे लगता नहीं की आप समूहवाचक संज्ञा को जानते होंगे ,खैर छोड़िए अगर आप इस संज्ञा के बारे में नहीं पता है तो ,आप इस आर्टिकल को पढ़ने के बात आपको समूहवाचक संज्ञा के बारे में बेहतर पता चल जाएगा।

इस लेख की मदद से, हमने समूहवाचक  संज्ञा के बारे में  विस्तार से जानकारी प्रदान की है, इसलिए हमें लगता है कि,यह लेख आपकलिए विल्कुल सही सावित हो सकता है , यदि आप वास्तव में इस  संज्ञा के बारे में  जानना चाहते हैं।

यहां हमने समूहवाचक संज्ञा के प्रकार, परिभाषा आदि के बारे में उदाहरणों के साथ चर्चा की है, ताकि आपको समूहवाचक  संज्ञा के बारे में बेहतर पता चल सके।

तो चलिए बिना कुछ समय बिताए समूहवाचक संज्ञा के बारे में बात करते हैं।

समूहवाचक संज्ञा किसे कहते हैं :

आपको बता दें कि हिंदी व्याकरण में कुल तीन प्रकार की संज्ञाएं होती हैं, जिनमें से जातिवाचक संज्ञा एक है ,जिसे दो भागों में बटा गया ,जिसमे से एक है द्रव्यवाचक संज्ञा और दूसरा है  समूहवाचक संज्ञा,जिसे अंग्रेजी में “collective noun” के रूप में जाना  जाता हैं।

किसी व्यक्ति, वस्तु और स्थान के  समूह को विशेष रूप से समूहवाचक संज्ञा के रूप में गिना जाता है, जैसे टीम ,झुंड़ ,समुदाय ,आदि।

परिभाषा  – ऐसे संज्ञा शब्द  या नाम जो किसी वस्तु, व्यक्ति या स्थानों के समूह के नाम को व्यक्त करते हैं, उन संज्ञा शब्दों को समूहवाचक संज्ञा कहा जाता है।

जैसे:

समुदाय, समाज, क्षेत्र, व्यापकता, धर्म, पार्टी, समाज, समिति, झुंड, सभा, जाति, सेना, गिरोह, बैच, संघ, संगठन,आदि।

समूहवाचक संज्ञा के उदाहरण :

a) कल रात का आईपीएल मैच चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने जीता था।

इस वाक्य में, “टीम” एक समूहवाचक  संज्ञा है।

b) आज बाजार में एक दर्जन केलों की कीमत केवल दस रुपये थी।

इस वाक्य में, “दर्जन” शब्द एक समूहवाचक संज्ञा है, क्योंकि यह शब्द केले के एक समूह  को बोध कराता है।

c)  भारतीय सेना में भर्ती होना मेरे जीवन का लक्ष्य है।

सेना इस वाक्य में एक समूहवाचक  संज्ञा है।

 d)  अगर आप कोरोना महामारी से खुद को बचाना चाहते हैं, तो ज्यादा भीड़ न करें।

 यहाँ” भीड़ “शब्द एक समुदायवाचक संज्ञा है।

e)  मेरे परिवार में कुल पांच सदस्य हैं।

परिवार शब्द इस वाक्य में एक समूहवाचक संज्ञा है।

f)  रामलीला करने के लिए कल रात हमारे गाँव में एक बैठक हुई।

यहाँ शब्द बैठक एक समूहवाचक संज्ञा है।

g) कल सुबह, हाथियों के एक झुंड ने रामू के धान के खेत को नष्ट कर दिया।

इस वाक्य में, “झुंड” शब्द  एक समुदायवाचक संज्ञा है

h) श्याम, मेरो को अंगूर का एक गुच्छा दिया।

यहाँ गुच्छा एक समूहवाचक संज्ञा है।

अंतिम शब्द:

हमें यकीन है कि आप समूहवाचक संज्ञा के बारे में बेहतर से जान गए होंगे, लेकिन फिर भी आपके पास समूहवाचक संज्ञा से संबंधित कोई भी प्रश्न है, तो आप हमे बेझिझक टिप्पणी कर सकते हैं, साथ ही साथ यह लेख आपके लिए फायदेमंद रहा है तो हमे जरूर बताएं ।

इसे शेयर करें :

संबंधित पोस्ट :

jativachak-sangya

जातिवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं ,भेद और उदाहरण (Jativachak Sangya)

sanhya-ke-kitne-bhed-hoti-h

संज्ञा के कितने भेद होते हैं |Sangya ke kitne bhed hote hain

dravy-vachak-sangya

द्रव्यवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं,भेद और उदाहरण(Dravya vachak sangya)

sangya kise kahate hain

संज्ञा किसे कहते है|Sangya kise kahate hain

Leave a Comment