जातिवाचक संज्ञा -किसे कहते हैं ,भेद और उदाहरण (Jativachak Sangya)

jativachak-sangya

क्या आप जातिवाचक संज्ञा(Jativachak sangya) के बारे में जानना चाहते हैं, यदि हाँ, तो इस लेख में आपको जातिवाचक संज्ञा के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी , क्योंकि यहाँ हमने जातिवाचक संज्ञा के बारे में विस्तार से बताया है।

यहां हमने जातिवाचक  संज्ञा की परिभाषा और इसके सभी अंतरों को उदाहरणों के साथ समझाने की कोशिश की है, ताकि आप इसके बारे में जल्दी और बेहतर जान सकें, इसलिए हमें लगता है कि आप जातिवाचक संज्ञा के बारे में बेहतर से जान पाएंगे ।

जैसा कि आप जानते हैं कि हिंदी व्याकरण में कुल तीन प्रकार के संज्ञा होते हैं, जिनमें से एक जातिवाचक संज्ञा और बाकी दो संज्ञाएँ व्यक्तिवाचक संज्ञा और भाववाचक संज्ञा हैं।

सभी प्रकार के समूह,ग्रुप और जाती को जातिवाचक संज्ञा के रूप में गिना जाता हैं , जैसे कि सब्जि यह शब्द सभी प्रकार की सब्जियों की पहचान करता है, अर्थात सभी सब्जियों का निर्दिष्ट नाम सब्जी कहलाता है।

जातिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं(Jativachak Sangya kise kahate hain)

सभी प्रकार के बस्तु, व्यक्ति और स्थान के जाती को  जातिवाचक संज्ञा कहा जाता हैं,जैसे टीम ,दर्जन,पुलिस,आर्मी ,आदि। 

परिभाषा - ऐसे शब्द जो किसी व्यक्ति, वस्तु या स्थान के संपूर्ण जाती के नाम को दर्शाते हैं, उन्हें जातिवाचक संज्ञा कहा जाता है,जैसे कि यह "पुलिस" शब्द पुलिस के सम्पूर्ण जाती को दर्शाता है, इसलिए यह एक जातिवाचक संज्ञा है। 

ध्यान दें :

  • जातिवाचक संज्ञाएँ दृश्य होते ,यानी हम उन्हें देख सकते हैं।  
  • जातिवाचक संज्ञाएँ बहुवचन होते हैं ,और वे एकबचन होंगे तो उन्हें बहुवचन भी किया जा सकता हैं।

जैसे :

पुलिस - इस  "पुलिस" शब्द पूरे पुलिस विभाग को संदर्भित करता है।

पर्वत - सभी पर्वतों के निर्दिष्ट नाम पर्वत कहलाता है, यानी पर्वत का मब एक भी पर्वत नहीं है, यह दुनिया के सभी पर्वतों की जाति को दर्शाता है।

बाघ - बाघ का मतलब एक ही बाघ नहीं है, यह बाघ की पूरी प्रजाति को संदर्भित करता है,इसलिए यह एक जातिवाचक संज्ञा हैं। 

जैसे :

व्यक्ति के नाम - बच्चा, माँ, किशोरी, पिता, बच्चा, दादी, छात्र, शिक्षक, मंत्री, पुरुष, महिला

जानवरों के नाम: बाघ, हाथी, बिल्ली, कुत्ता, तेंदुआ, मगरमच्छ, पक्षी, भेड़िया

चीजों के नाम - कुर्सी, मेज, कार, नाव, पुस्तक, पेंसिल, कंप्यूटर, जग, मग, बिस्तर

स्थानों के नाम: पहाड़, नदी, शहर, राज्य, वन, यूरोप, कॉफी की दुकान, होटल, पार्क, चिड़ियाघर, बैंक

जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण :

a) धोनी एक प्रसिद्ध क्रिकेटर हैं।
यहां क्रिकेटर एक जातिवाचक संज्ञा हैं।

b) वह आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स टीम के लिए खेलते हैं
यहाँ टीम एक जातिवाचक संज्ञा है।

c) रोहन का जन्म एक छोटे से शहर चेनाई में हुआ था।
इस वाक्य में सहर एक जातिवाचक संज्ञा है, यह शब्द सभी शहरों के निर्दिष्ट नाम को दर्शाता है।

d) डुवुला सबसे छोटा गाँव है जहाँ केवल 10 परिवार रहते हैं।
यहाँ, गाँव और परिवार जातिवाचक संज्ञाएँ हैं।

e) राम का नदी के किनारे एक छोटा सा घर है।
इस वाक्य में नदी और घर  जातिवाचक संज्ञा के अंतर्गत आते हैं।

f) राम कभी-कभी नदी के किनारे टहलने जाते हैं।
नदी और किनारे यहां जातिवाचक संज्ञा हैं।

g) श्याम अगले महीने एक कार खरीदने जा रहे हैं।
इस वाक्य में, कार एक जातिवाचक संज्ञा है।

h) लेकिन उसके पास पहले से ही एक कार और बाइक है।
यहाँ कार और बाइक इस प्रकार के संज्ञाएँ हैं।

जातिवाचक संज्ञा के कितने भेद होते हैं ( Jativachak Sangya ke bhed)

आपको बता दें कि जातिवाचक संज्ञा मूल रूप से दो प्रकार के होते है ,जिसमे से एक है द्रव्य वाचक संज्ञा और दूसरा है समहू वाचक संज्ञा।

जातिवाचक संज्ञा के दो प्रकार हैं

1- द्रव्यवाचक संज्ञा  - संसार में स्थित सभी प्रकार की वस्तुओं को द्रव्यवाचक संज्ञा के रूप में गिना जाता है, अर्थात किसी वस्तु के नाम को इंगित करने वाले शब्दों या नामों को विशेष रूप से द्रव्यवाचक संज्ञा या बस्तवाचक संज्ञा कहा जाता है। जैसे चेयर,टेबल,आदि। 

2 - समूहवाचक संज्ञा - ऐसे संज्ञा शब्द जो किसी समूह के नाम या किसी टीम के नाम की पहचान करते हैं, उन्हें बिशेष रूप से समूहवाचक संज्ञा कहा जाता है,जैसे PJB पार्टी ,congres पार्टी,आदि।

फाइनल वर्ड :

वैसे, आपने जातिवाचक संज्ञा के बारे में बेहतर से जान गए होंगे, लेकिन फिर भी यदि आपका कोई प्रश्न है, तो कृपया हमें टिप्पणियों के माध्यम से बताएं, और हम आपके प्रश्न का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे।

पोस्ट को शेयर करें:

संबंधित पोस्ट:

Vyaktivachak-sangya

व्यक्तिवाचक संज्ञा – किसे कहते हैं और उदाहरण(Vyakti vachak sangya)

sangya ke kitne bhed hote hain

संज्ञा के कितने भेद होते हैं |Sangya ke kitne bhed hote hain

Dravya vachak-sangya

द्रव्यवाचक संज्ञा- किसे कहते हैं,भेद और उदाहरण(Dravya vachak sangya)

Leave a Comment