द्रव्यवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं,भेद और उदाहरण(Dravya vachak sangya)

dravyavachak sangya

द्रव्यवाचक संज्ञा (dravya vachak sangya)किसे कहते ,क्या आप इस प्रश्न का उत्तर जानना चाहते हैं ,अगर जानना चाहते हैं तो यह पोस्ट आपकेलिए फायदेमंद साबित हो  सकता हैं,किउंकि इस आर्टिकल के जरिए हम द्रव्यवाचक संज्ञा के वारे में डिटेल जानकारी शेयर  की हैं.

इसलिए अगर आपको सही में द्रव्यवाचक संज्ञा  तथा वस्तुवाचक संज्ञा के वारे में जानना है तो इस आर्टिकल  आपकेलिए एकदम सही हैं।

यदि आप जानते हैं कि संज्ञा कितने प्रकार की होती है, तो आपको यह भी पता होगा कि जातिवाचक संज्ञा के कितने प्रकार होते हैं , वैसे आपको बता दें ,जातिवाचक संज्ञा के दो प्रकार होती है, जिनमें से एक समूहवाचक संज्ञा है और दूसरी द्रव्य वाचक संज्ञा है जिसे अंग्रेजी में “common noun “के रूप में जाना जाता है।

द्रव्यवाचक संज्ञा किसे कहते हैं(Dravya Vachak Sangya)

जिन संज्ञाओं को देखा या स्पर्श किया जा सकता है उन्हें द्रव्यवाचक संज्ञा कहते हैं। इसलिए दुनिया की सभी चीजें जिन्हे हम अपने आँखो से देख सकते है उन्हें द्रव्यवाचक संज्ञा के रूप में गिना जाता हैं, आप उन्हें अपने हातों में छू सकते हैं और उन्हें भी मापा जा सकता है।

ध्यान दें :

  • द्रव्यवाचक संज्ञाएँ अगणनीय होते है ,यानी हम उन्हें गिन नहीं सकते है ,जैसे की सोने हम इसे गिन नहीं सकते है ,लेकिन ओजन कर सकते हैं। 
  • द्रव्यवाचक संज्ञाएँ को ओजन और तौल सकते हैं।
  • द्रव्यवाचक संज्ञा को बस्तुवाचक संज्ञा भी कहा जाता  हैं।
  • वे तरल,अर्ध-तरल या ठोस के रूप में होते हैं।

जैसे :सोना, हवा, नमक, तांबा, धातु, लोहा, स्टील, कैल्शियम, कांस्य, प्लाईवुड, सिंथेटिक्स, एल्यूमीनियम, पीतल, सीसा, कोयला, मूंगा, रत्न, चांदी, हीरा, कांच, फाइबर, रसायन, प्लास्टिक, शैम्पू, रबर, कागज, सीमेंट, पेंट, इत्र, शराब, साबुन आदि।

द्रव्यवाचक संज्ञा के उदाहरण :

a)  सूती कपड़े बहुत ही सस्ते होते हैं।इस वाक्य में कपड़े द्रव्यवाचक संज्ञा हैं। b)   मेरे भाई ने मुझे सोने के लिए माली खरीदा।यहाँ पर सोने एक द्रव्यवाचक संज्ञा हैं। c)  मैं हर दिन एक गिलास दूध पीता हूंइस वाक्य में दूध बस्तवाचक संज्ञा हैं d)  मेरे मामा के पास बहुत सारे हीरे हैं।यहाँ हिरे द्रव्यवाचक संज्ञा हैं। e)  ट्रेन के ज्यादातर हिस्से लोहे से बने हैं।”लोहे” इस वाक्य में एक द्रव्य वाचक संज्ञा हैं . f)   सोने की अंगूठी की तुलना में चांदी के अंगूठी बहुत ही सस्ते होते हैं।यहाँ पर सोने और चांदी द्रव्यवाचक संज्ञा हैं। g)  यहाँ पर अंगूठी भी एक द्रव्य है ,लकिन ये जातिवाचक संज्ञा के अंतर्गत आता है ,किउंकि यह एक ही अंगूठी को नहीं वल्कि सभी प्रकार के अँगूठीओं के समूह को बोध कर रहा है । h)  ताजमहल पत्थर से निर्मित है।इस वाक्य में पत्थर एक द्रव्यवाचक संज्ञा है। i)  मैं हर दिन पांच गिलास पानी का पिता हूं।यहाँ पानी एक वस्तुवाचक संज्ञा हैं। j)  हमारे पास कई पीतल के बर्तन हैं।यहाँ पीतल एक द्रव्यवाचक संज्ञा हैं।

द्रव्यवाचक संज्ञा और जातिवाचक संज्ञा में क्या अंतर है

वैसे, आपको बता दें कि जातिवाचक संज्ञा और द्रव्यवाचक संज्ञा में बहुत ही कम अंतर होता है, इसलिए अक्सर छात्र जातिवाचक संज्ञा को द्रव्यवाचक संज्ञा और द्रव्यवाचक संज्ञा को जातिवाचक संज्ञा मानते हैं, जो उनके उत्तर को गलत बनाता है, इसलिए आपके लिए यह जानना बहुत ही महत्वपूर्ण है,की जातिवाचक संज्ञा और द्रव्य वाचक संज्ञा में क्या अंतर है।

जैसे:

  द्रव्यवाचक संज्ञा   जातिवाचकसंज्ञा
            गोल्ड  माली,हार,
             काठ   चेयर,टेबल
             दूध   घी,दही
             लोहा बाइक,कार,ट्रक

फाइनल वर्ड :

हमे यकीन है की आप अच्छे से बास्तुवाचक संज्ञा  किसे कहते हैं जान गए होने , लेकिन फिर भी यदि आपके मन में बास्तुवाचक  संज्ञा को लेकर मन  में किसी प्रकार का संदेह है, तो आप हमे जरूर  टिप्पणी करें। यदि आप संज्ञा के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं, तो यहां देखें।

इसे शेयर करें:

संबंधित पोस्ट :

jativachak-sangya

जातिवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं ,भेद और उदाहरण (Jativachak Sangya)

sanhya-ke-kitne-bhed-hoti-h

संज्ञा के कितने भेद होते हैं |Sangya ke kitne bhed hote hain

sangya kise kahate hain

संज्ञा किसे कहते है|Sangya kise kahate hain

Leave a Comment