भाववाचक संज्ञा-किसे कहते हैं और इसके उदाहरण(Bhav vachak sangya)

जैसा कि आप जानते हैं, मूल रूप से तीन प्रकार की संज्ञाएं होती हैं, जैसे कि ब्यक्तिवाचक संज्ञा, जातिवाचक संज्ञा और तीसरी भाववाचक संज्ञा है जिसे हम अंग्रेजी में “Abstract noun” के रूप में जानते हैं। आज यहां हम आपको भाववाचक संज्ञा(Bhav vachak sangya) के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं, इसलिए यदि आप भाववाचक संज्ञा के बारे में नहीं जानते हैं, तो इस लेख की मदद से, आप आज इस भाववाचक संज्ञा को बेहतर तरीके से जान पाएंगे।

यहां हम चर्चा करने जा रहे हैं कि भाववाचक संज्ञा किसे कहते हैं, और इसके सभी भेदों को उदाहरणों के साथ, ताकि आप इसे बेहतर ढंग से समझ पाएंगे और इसके बारे में जान पाएंगे।

वैसे, इस वेबसाइट में हमने संज्ञा और उसके सभी प्रकारों को समझने की कोशिश की है, इसलिए यदि आप संज्ञा और उसके सभी प्रकारों के बारे में बेहतर जानना चाहते हैं, तो आप उन्हें पढ़ सकते हैं।

भाववाचक संज्ञा किसे कहते हैं (Bhav vachak Sangya)

  • भाववाचक संज्ञाएँ अदृश्य होते हैं ,यानी हम उन्हें केवल महसूस कर सकते हैं। 
  • भाववाचक संज्ञाएँ अवास्तविक और अमृत होते हैं।

परिभाषा – किसी वस्तु, व्यक्ति या स्थान के भावों के नाम को भाववाचक संज्ञा के रूप में गिना जाता है, अर्थात, ऐसे संज्ञा शब्द और नाम जिनके उच्चारण के समय हमारे दिमाग में किसी भी तरह की तस्वीर नहीं उभरती है, उन्हें भाववाचक संज्ञा कहा जाता है।

जैसे :शौर्य, तेज, सम्मान, सम्मान, क्रूरता, शांति, सामान्य, आत्मविश्वास, संतुष्टि, साहस, जिज्ञासा, समर्पण, दृढ़ संकल्प, विनम्रता, हास्य, अहंकार, लालित्य, उत्साह, सौंदर्य, ईर्ष्या, बुराई, भय, उदारता, भलाई, घृणा, आशा, पागलपन, निष्ठा, बुद्धिमत्ता, ईर्ष्या, दया, निष्ठा, दान, सहानुभूति, सहानुभूति, प्रतिभा, शीतलता, स्पष्टता, प्रसन्नता, निराशा, निराशा, परिपक्वता, धैर्य, दृढ़ता, विवेक, संवेदनशीलता, संवेदनशीलता, दृढ़ता, लंबे समय तक पीड़ा विश्वास, गर्मी, कमजोरी, क्रोध, चिंता, चिंता, अविश्वास, खुशी, नफरत, मदद, असहायता, खुशी, प्यार, दुःख, दर्द, खुशी, शक्ति, गर्व, आराम, राहत, रोमांस, दुःख, आदि।

भाववाचक संज्ञा के उदाहरण:

a) राम अपने भाई से लम्बे हैं।यहां “लम्बे” शब्दएक बाह्ववाचक संज्ञा है, क्योंकि यह “लम्बे” शब्दनिर्दिष्ट भाव के नाम को दर्शा रहा है।b)  राधिका और प्रिया की आपस में शत्रुता है।इस वाक्य में “शत्रुता” शब्द एक भाव का नाम को व्यक्त कर रहा है, इसलिए यहाँ “शत्रुता” शब्द एक बाह्ववाचकल संज्ञा है।c)  राम के हाथ में बहुत ताकत है।

यहाँ “ताकत” एक भाववाचक संज्ञा है, यह शब्द एक निर्दिष्ट भावना का नाम व्यक्त करती है।

d)  पक्षी आसमान में स्वतंत्रता से घूमना पसंद करते हैं।

यहाँ “स्वतंत्रता” शब्द किसी निर्दष्ट भाव के नाम व्यक्त कर रहा है, भाववाचक संज्ञा है। e)  क्रोधित होना अच्छी बात नहीं है।

यहाँ “क्रोधित” शब्द एक भाववाचक संज्ञा है,यह निर्दिष्ट भाव के नाम को ब्यक्त कर रहा है।f)  हर मां अपने बच्चे को खुद से ज्यादा प्यार करती है।

इस वाक्य में, प्यार शब्द एक भाववाचक संज्ञा है, यह शब्द किसी भाव के नाम को व्यक्त कर रहा है।g) आलोक को गरीब लोगों की मदद करना बहुत पसंद है।

इस वाक्य में मदत और पसंद भाववाचक संज्ञा हैं।h)  प्रियंका देखने में बेहद खूबसूरत लगती हैं।

खूबसूरत ” यहाँ एक भाववाचक संज्ञा है।

फाइनल वर्ड :

हम आशा करते हैं कि आप भाववाचक संज्ञा के बारे में बेहतर समझ गए होंगे, लेकिन फिर भी यदि आपके मन में भाववाचक संज्ञा के बारे में कोई प्रश्न हैं, तो आप हमसे निःसंकोच पूछ सकते हैं।यहां हम संज्ञा और उसके सभी प्रकारों के बारे में भी विस्तार से चर्चा की गई है, इसलिए यदि आप संज्ञा को बेहतर तरीके से जानना चाहते हैं, तो एक बार उस लेख को पढ़ें।

इसे शेयर करें :

संबंधित पोस्ट :

samuh vachak sangya

समूहवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं और इसके उदाहरण (Samuh vachak sangya)

jativachak-sangya

जातिवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं ,भेद और उदाहरण (Jativachak Sangya)

Vyaktivachak-sangya

व्यक्तिवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं और उदाहरण(Vyakti vachak sangya)

sanhya-ke-kitne-bhed-hoti-h

संज्ञा के कितने भेद होते हैं |Sangya ke kitne bhed hote hain

dravy-vachak-sangya

द्रव्यवाचक संज्ञा-किसे कहते हैं,भेद और उदाहरण(Dravya vachak sangya)

Leave a Comment